Sushil kumar (Pahalwan) Biography | रेसलर सुशील कुमार का जीवन परिचय

Sushil kumar news, क्या है पूरा सुशील कुमार का मामला, आखिर क्यों सागर धनकड़ का murder किया गया?

Sushil kumar news, क्या है पूरा सुशील कुमार का मामला, आखिर क्यों सागर धनकड़ का murder किया गया?

आखिर वो कौन सी जरूरत आन पड़ी की छोटी सी बात पर Sushil Kumar ने कुछ गुंडों के साथ मिलकर

सागर धनकड़ और उसके कुछ साथ रहने वाले कुछ दोस्तों को बुरी तरह पीट दिया की अगले ही दिन

सागर धनकड़ की मौत गई। आखिर क्या है पूरा मामला जानेंगे पूरा विस्तार से शुरू से आखिर तक उसके पीछे

मकसद क्या थी। आखिर छोटी से बात पर इतना बड़ा ओलिंपिक विजेता जिसने ओलिंपिक में दो – दो पदक जीता और हिन्दुस्तान के ऐसे एकलौते है जिसने ओलिंपिक में पदक जीता। और जिसने 3 बार कोम्मोंवेल्थ गेम में गोल्ड मेडल भी जीता, जो राजीव गाँधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया, जिसे अर्जुन अवार्ड मिला हो जिसे पदम् श्री मिला हो ऐसे सम्मानित व्यक्ति इज्जतदार व्यक्ति ये कैसे कर सकता है आखिर क्यों उए सब करने की नौबत क्यों आई। सुशील कुमार ही बता पायेगा अब तो उसकी life बर्बाद हो ही गई है, इसने खुद अपने पैर पे कुल्हाड़ी मारी है। आज के वक्त में इनके पास क्या नहीं थी हर वो ऐश्वा आराम थी दौलत थी शोहरत थी।

सुशील कुमार का ताजा खबर और पुलिस का पूरा बयान क्या है? पुरे सबूत है पुलिस के पास सुशील कुमार के खिलाफ।

ये जो कहानी है ये एक और पहलवान की मर्डर की है जिसका नाम सागर धनकड़ है जो 23 साल का लड़का जो हरयाणा से ही आता है। सागर धनकड़ के पिताजी दिल्ली पुलिस में एक कांस्टेबल के पद पर है, सागर धनकड़ की भी ख्वाइश थी की वो भी सुशील कुमार के जैसा एक पहलवान बने। और सुशील कुमार को वो अपना गुरु भी मानते थे, और जब सागर धनकड़ ने कुश्ती में इंटरेस्ट दिखाई तो उसके घर वाले ने उसका साथ दिया और उसे छत्रसाल स्टेडियम में एडमिशन दिला दिया। ये वो स्टेडियम है जहाँ से बड़े बड़े पहलवान बनकर निकले हैं, जिसने देश का नाम रौशन किया ऐसे बहुत से पहलवान हैं। और छत्रसाल स्टेडियम के जो IN charge है वो है सतपाल सारा देख रेख इन्ही को करना है, जो सुशील कुमार के गुरु भी है और वहीं सागर ने कुश्ती सिखने का निर्णय किया।

इस छत्रसाल स्टेडियम से पहले कौन कौन से पहलवान निकले है ये भीजान ले जैसे की सुशील कुमार योगेश्वर दत्त,

बजरंग पुनिया, रवि दहिया, दीपक पुनिया और अन्य भी ख़िलाड़ी है इन लोगो ने यहीं से कुश्ती सीखी

और सागर धनकड़ अब यहाँ पहुँचता है, और अपनी ट्रेनिंग शुरू करता है। इसी दौरान सुशील कुमार को रेलवे में

नौकरी भी मिल जाती है, लेकिन सुशील कुमार को कुछ वक्त पहले OSD बना कर इसी छत्रसाल स्टेडियम में भेजा जाता है। ऑफिसर on स्पेशल ड्यूटी इस स्टेडियम में इन दोनों की ही ज्यादा तूती चलती है, सुशील कुमार और सतपाल के खिलाफ किसी की हिम्मत नहीं होती थी कि कोई इसके खिलाफ जाये और छत्रसाल स्टेडियम में सागर धनकड़ पहलवानी सिखने आता है।

सागर धनकड़ की मृत्यु कैसे हुई? | Sushil Kumar के खिलाफ क्या है पूरा मामला?

पुलिस रिकॉर्ड के हिसाब से क्या है पूरा मामला, क्या है पूरी स्टोरी सुशील कुमार के खिलाफ, पुलिस छानबीन में

सामने क्या आता है पुलिस के पास सुशील कुमार के खिलाफ क्या क्या सबूत है? पुलिस अपने रिपोर्ट में

बताते हैं कि उसे PCR में 4 may 2021 की रात के एक काल आता है। और उसके बाद उस कॉल को लोकल पुलिस थाने में ट्रान्सफर कर दी जाती है, और खबर ये थी की छत्रसाल स्टेडियम के अंदर बास्केट बाल के कोर्ट के करीब पार्किंग में गोलियां चली है। और गोलियां की आवाज भी सुनाई दी है, ऐसी खबर आते ही पुलिस छत्रसाल स्टेडियम पहुँचता है वक्त करीब रात के 12 बज रहे थे, वहां जाने के बाद पुलिस देखती है वहां कोई नहीं है सिर्फ कुछ घायल लोग पड़े हुए है तीन लोग घायल थे जिनमे से एक सागर धनकड़ भी था तो वहां से उठाकर उसे नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया जाता है और उसके बाद पुलिस पार्किंग में खडी गाड़ियों की चेकिंग करती है।

तो पुलिस को एक गाड़ी से एक बन्दुक मिलती है और एक कार्तुश मिलती है, और एक दूसरी गाड़ी से हाकी स्टिक, डंडे, राड आदि मिलते हैं। इसके बाद पुलिस उन तीनो को नजदीक के अस्पताल में भर्ती करा देता है, ज्यादा चोट की वजह से अगले दिन सागर धनकड़ की मौत हो जाती है ये एक जूनियर उभरता हुआ पहलवान सितारा था। जो सुशील कुमार को अपना गुरु तक मानता था, अब उसके बाद उन दोनों घायल जो थे उन दोनों से बयान लिया जाता है। बयान लेने के बाद जो कहानी सामने आती है और इस केस के दोनों अहम् विटनेस भी है

दोनों घायल जो उस रात सागर धनकड़ के साथ था वो क्या बताते हैं?

दोनों घायल में से एक का नाम सोनू है और ये बताते है कि वो 4 मई की रात

वो सागर धनकड़ के साथ ही थे और ये दोनों इसी स्टेडियम में ट्रेनिंग ले रहे हैं।

और सोनू ये भी बताते हैं कि ये एक शराब की दुकान भी चलाता है और पहलवानी भी सीखता है।

Modern टाउन में एक फ्लैट था उसको किराये पर लिया था जिसमे एक सागर धनकड़ उसके साथी सोनू और उसके एक नेपाली नौकर भी रहता था। करीब एक महिना पहले का इन्होंने किराया नहीं दिया था और उसी दौरान अचानक उन्हें पता चला की जिस फ्लैट में सागर धनकड़ रहता है। दरअसल वो फ्लैट सुशील कुमार की बीबी की है एक दो दिन पहले उसके आदमी किराया मांगने आया था। लेकिन उसने कहा कुछ दिन में दे देंगे और उन्होंने ही बताया की ये फ्लैट सुशील कुमार के बीबी का है। कहा ठीक है हम किराया दे देंगे और उनसे भी बाते कर लेंगे, और ये बात सुशील कुमार के पास अगले ही दिन पहुँच गई, 4 मई की रात को 4 से 5 लोग के साथ Sushil Kumar डंडे वैगरह लेकर उसी फ्लैट के नीचे पहुँचता है। और वहां पर तीन लोग थे सागर धनकड़, सोनू

फ्लैट में सुशील कुमार का आदमी जाकर कहते है कि नीचे सुशील कुमार ने बुलाया है वो नीचे

एक कार में बैठे थे हौंडा city कार थी और जब वो नीचे गया तो उसने देखा की सुशील कुमार

के हाथ में पिस्टल थी और उसने उन लोगो को इशारा किया कि वो गाड़ी के अंदर आ के बैठे

और उसके बाद तीनो को गाड़ी में बैठाकर छत्रसाल स्टेडियम ले गया और वहां पार्किंग में गाड़ी रोका वहां पर कुछ और लोग थे जो सुशील कुमार के साथी थे कुल नौ लोग हो गए थे।

4 मई की रात Sushil Kumar और सोनू और उसके साथी के साथ क्या हुआ?

जब सागर और उसके साथी को छत्रसाल स्टेडियम ले जाया गया वहां ले जाकर Sushil Kumar ने धमकी भरे

स्वर में कहता है कि तुम लोग मकान पर कब्ज़ा करना चाहते हो आओ तुझे बताता हूँ कि कब्ज़ा कैसे होता है। कहा हमलोगों ने तो वैसा कुछ नहीं कहा और न ही वैसा कुछ सोचा और हमने तो करीब मकान छोड़ ही दिया है। और किराया भी कुछ दिन में दे देंगे, लेकिन इसके बाद बात आगे बढती है और उसके बाद तीनो को हाकी डंडे सरिया से पीटने लगती है। और सबसे ज्यादा चोट आती है सागर धनकड़ को और इसी बीच दो गोलियां भी चलती है ये रात के करीब 11 से 12 बजे के बीच हो रही थी। और जब करीब सब बुरी तरह से घायल हो जाते हैं और जब सागर धनकड़ की हालात ख़राब हो जाती है तो वो लोग वहां से निकल जाते हैं। इसके बाद कोई पीसीआर को 100 नंबर पर फोन करती है उसके बाद पुलिस आती है।

और वहां कुछ और पहलवान भी थे जिसने इस लड़ाई को देखा और विडियो भी बनाई थी।

इलाज के दौरान पुलिस लेकिन सागर का बयान नहीं ले पाती है वो ज्यादा समय शायद बेहोश ही थे।

इसके बाद 2 विटनेस जो घायल थे उसी के बयान के आधार पर केस दर्ज किया सुशील कुमार और उसके कुछ साथियो ने मिलकर सागर धनकड़ और हम लोगों का मारा था। यहाँ सवाल उठा है की ये दो विटनेस के आधार पर कैसे साबित होगा की सुशील कुमार जी हत्यारा है तो उस समय जब मारपीट हो रही थी तब कुछ लोगो ने विडियो बनाई थी इसकी जानकरी पुलिस को मिलती है तो पुलिस छत्रसाल स्टेडियम पहुँचती है और उन लोगों से पूछताछ करती है और पूछती है गर आपके पास कोई सबूत है तो हमें बताये।

पुलिस के पास Sushil Kumar के खिलाफ क्या सबूत है?

जब पुलिस स्टेडियम में जाकर कुछ पहलवानों से पूछती है कि गर आपके पास सबूत है तो आप हमें दे।

हम आपका नाम गुप्त रखेंगे, पुलिस की ये ट्रिक काम कर जाती है और किसी ने पुलिस को

उस रात की मारपीट की विडियो दे देती है जिसमे साफ दिखती है की सुशील कुमार सागर धनकड़ और बाकि

लोगो की पिटाई कर रहा है। अब यहाँ पर क़त्ल क्यों हुआ पुलिस की जांच आगे बढती है,

बहुत सी चीजे सामने आती है सुशील कुमार को पता चल जाता है कि पुलिस के सबूत के तौर पर उसका किसी ने उसका विडियो बनाया था और उसे पुलिस को दे दी है। और जिसके बाद से 5 मई से वो गायब, फरार हो जाता है इससे ये तो साबित हो जाता है की इन लोगो को इसने ही मारा है और उसके  बाद से उसपर 1 लाख का इनाम भी रख दिया जाता है। एक महीने का किराया को लेकर इतना बड़ा कांड कर दिया ये मामला इस पर फिट नहीं बैठती। ये मामला कुछ और ही होगा, सुशील कुमार की दोस्ती बाहर के हरयाणा के ही कुछ क्रिमनल से हो गई थी ये पुलिस ने पुष्टि की गलत संगत के कारण जब कहीं controversy आ जाती तो क्रिमनल के बीच में सुशील कुमार उन दोनों के बीच कूद जाते किसी तरह समझौता करवाने के लिए।

मकान खाली करवाना धमकी दिलवाना सब सुशील कुमार से कराया जाने लगा वक्त बीतने के साथ

गलत संगत में चले जाना सुशील कुमार की ये सबसे बड़ी गलती थी, उसे एहसास तक नहीं हुआ।

कि वो क्या कर रहा है, जिस शख्स के नाम दो ओलिंपिक पदक जो आज भी भारत में अकेला है।

Default image
Anshuman Choudhary

Leave a Reply

%d bloggers like this: